Bhartiya Parmapara

Anjali Ojha

Anjali Ojha
Anjali Ojha

बचपन से मिला पारिवारिक एवं सामाजिक माहौल व्यक्ति की अभिरुचि पर विशेष प्रभाव डालता है। अंजली के जीवन एवं लेखन पर दादा जी के सानिध्य में गुजारे स्वर्णिम वर्षों का खास असर है। स्नातकोत्तरत् शिक्षा प्राप्त अंजली ओझा पारिवारिक जिम्मेदारियों के निर्वाहन एवं हिंदी पठन-पाठन संकलन एवं लेखन में विशेष संतुलन बनाए रखती है। परिवार में साहित्यिक माहौल एवं पुस्तकों, समाचार पत्रों तथा पत्रिकाओं की सदैव सहज उपलब्धता रही, विशेषतः रस्किन बॉन्ड शिवानी मृदुला गर्ग मालती जोशी प्रेमचंद और अनेक लेखकों को पढ़ने का विशेष सौभाग्य प्राप्त हुआ, धर्मयुग हिंदुस्तान आदि समाचार पत्रिकाएं नियमित रूप से उपलब्ध रही। पिता एवं पति के उच्च शासकीय अधिकारी होने के कारण मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के विभिन्न छोटे एवं बड़े शहरों में स्थानांतरण होते रहे,अतः विभिन्न सामाजिक संस्कृति को निकट रूप से अवलोकन करने का मौका मिला। अंजली का लेखन स्वयं द्वारा प्राप्त किए गए अनुभव पर ही विशेष रुप से आधारित है।

मां अंगार मोती, गंगरेल धमतरी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

मां अंगार मोती, गंगरेल धमतरी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

वनदेवी मां अंगार मोती परम तेजस्वी 'ऋषि अंगिरा' की पुत्री हैं। जिनका आश्रम, सिहावा के पास गंढाला में स्थित है। कहते हैं कि, मां अंगार मोती एवं  मां विंध्यवासिनी &nb...

माँं महामाया मंदिर अंबिकापुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँं महामाया मंदिर अंबिकापुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

शक्ति पीठों की इस श्रृंखला में, अगला नाम "अंबिकापुर की माँ महामाया" का आता है। जिनका एक नाम अंबिका भी है। जिनके नाम पर यह शहर, अंबिकापुर कहलाया। महामाया मंदिर की स्थापन...

माँ डिडनेश्वरी देवी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ डिडनेश्वरी देवी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

कहते है इस क्षेत्र के पत्थर - पत्थर में देवी देवता विराजमान हैं। टूटी-फूटी मूर्तियां, पत्थर और तांबे पर कुरेदे अजीब अक्षर, पकी मिट्‌टी के खिलौने-ठीकरे और सोने, चां...

आदिशक्ति चंडी माता मन्दिर घुंचापाली | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

आदिशक्ति चंडी माता मन्दिर घुंचापाली | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

शक्ति पीठों की श्रृंखला में अगला नाम आता है, महासमुंद जिले के बागबहरा के निकट स्थित, गांव घुंचापाली में स्थापित, चंडीमाता मंदिर का।  

छत्तीसगढ़ की राजध...

माँ विंध्यवासिनी मंदिर (बिलई माता मंदिर ) धमतरी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ विंध्यवासिनी मंदिर (बिलई माता मंदिर ) धमतरी | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

इस मन्दिर की स्थापना के बारे कहा है कि इस जगह पर पूर्व में घना जंगल था जहां वनवासी निवास करते थे, एवं शिकारी जानवरों का शिकार करने जाया करते थे, और घसियारे चारा लेने जा...

माँ राज राजेश्वरी (महामाया) मंदिर रायपुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ राज राजेश्वरी (महामाया) मंदिर रायपुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

हैहय वंशीय राजाओं ने कुलदेवी महामाया के 36 मंदिरों का निर्माण किया जिनमें से 18 शिवनाथ नदी के इस पार और 18 मंदिर उस पार स्थापित है। अधिकांश मंदिर किलों की शुरुआत में स्...

आदिशक्ति माँ महिषासुर मर्दिनी मंदिर चैतुरगढ़ | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

आदिशक्ति माँ महिषासुर मर्दिनी मंदिर चैतुरगढ़ | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ दुर्गा ने 9 दिन के युद्ध के पश्चात महिषासुर का अंत किया तब दुर्गा जी को महिषासुर मर्दिनी नाम प्राप्त हुआ। लौटते वक्त माँ महिषासुर मर्दिनी थकान उतारने के लिए इसी स्थ...

दंतेश्वरी माता मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

दंतेश्वरी माता मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

दंतेश्वरी माँ का मंदिर एकमात्र जगह है जहां फागुन माह में 10 दिवसीय आखेट नवरात्रि मनाई जाती है जिसमें हजारों आदिवासी शामिल होते हैं। पर्यटकों के आकर्षण का विशेष उत्सव है...

खल्लारी माता मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

खल्लारी माता मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

महाभारत काल में शकुनि ने पांडवों के अंत के लिए लाक्षागृह का निर्माण किया, ताकि पांडवों को उसमें भस्म में किया जा सके, यह जानकारी पाकर विदुर ने पांडवों को सुरंग बनाने के...

माँ बमलेश्वरी मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ बमलेश्वरी मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

डोंगरगढ़ की माता बमलेश्वरी का मंदिर जो छत्तीसगढ़ के 5 शक्तिपीठों में आता है। माता की महिमा अपरंपार है कहा जाता है कि ममतामई माँ दर्शन मात्र से भक्तों के सारे कष्ट हर ले...

माँ चंद्रहासिनी मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

माँ चंद्रहासिनी मंदिर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़

कहा जाता है कि दक्ष यज्ञ के पश्चात जब महादेव ब्रह्माँड में माता सती के शव को लेकर विचरण कर रहे थे तब यहां माँ का बायां कपोल गिरा था, उसी वक्त माँड एवं महानदी के बीच स्थ...

महामाया मंदिर रतनपुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़ | मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का ननिहाल

महामाया मंदिर रतनपुर | संभावनाओ का प्रदेश - छत्तीसगढ़ | मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का ननिहाल

मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम का ननिहाल छत्तीसगढ़, प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर हरा भरा, खनिज सम्पदावान प्रदेश छत्तीसगढ़ अपने आप में कई रंग समेटा हुआ है। यहां की परंपरा और संस्कृति को कुछ पृष्ठों में स...

;
dsadfsdaf
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |