Bhartiya Parmapara

नवरात्रि के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की पूजा, व्रत कथा, मंत्र, आरती, भोग और प्रसाद

नवरात्रि के पांचवे दिन देवी के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है, स्कंदमाता हिमायल की पुत्री पार्वती ही हैं। इन्हें गौरी भी कहा जाता है। कुमार कार्तिकेय को भगवान स्कंद के नाम से जाना जाता है और ये देवासुर संग्राम में देवताओं के सेनापति थे। इनकी माँ देवी दुर्गा थीं और इसी वजह से माँ दुर्गा के स्वरूप को स्कंदमाता भी कहा जाता है।  

स्कंदमाता की पूजा करने से शत्रुओं और विकट परिस्थितियों पर विजय प्राप्त होती है और नि:संतान दंपत्तियों को संतान का सुख मिलता है। जो मोक्ष की कामना करते हैं, उनको देवी मोक्ष प्रदान करती हैं। मान्यता है कि जिस भी साधक पर स्कंदमाता की कृपा होती है उसके मन और मस्तिष्क में अपूर्व ज्ञान की उत्पत्ति होती है। 

तिथि - अश्विन शुक्ल पक्ष पंचमी  
मंत्र - ॐ देवी स्कन्दमातायै नमः 
सवारी - सिंह  
भोग / प्रसाद - केले  
रंग - सफ़ेद  
पुष्प - कमल  
 

देवी का स्वरूप -

स्कंदमाता शेर की सवारी करती हैं जो क्रोध का प्रतीक है और उनकी गोद में पुत्र रूप में भगवान कार्तिकेय हैं, पुत्र मोह का प्रतीक है। स्कंदमाता की चार भुजाएं हैं। वे अपने दो हाथों में कमल पुष्प धारण करती हैं। वे अपने एक दाएं हाथ से सनतकुमार को पकड़ी हैं और दूसरे दाएं हाथ को अभय मुद्रा में रखती हैं। देवी स्कंदमाता कमल पर विराजमान होती हैं, इसलिए उनको पद्मासना देवी भी कहा जाता है। 

देवी का ये रूप हमें सीखाता है कि जब हम ईश्वर को पाने के लिए भक्ति के मार्ग पर चलते हैं तो क्रोध पर हमारा पूरा नियंत्रण होना चाहिए, जिस प्रकार देवी शेर को अपने काबू में रखती है। पुत्र मोह का प्रतीक है, देवी सीखाती हैं कि सांसारिक मोह-माया में रहते हुए भी भक्ति के मार्ग पर चला जा सकता है, इसके लिए मन में दृढ़ विश्वास होना जरूरी है। देवी स्कंदमाता की पूजा करने से संतान सुख मिलता है। बुद्धि और चेतना बढ़ती है। कहा गया है कि देवी स्कंदमाता की कृपा से ही कालिदास द्वारा रचित रघुवंशम महाकाव्य और मेघदूत जैसी रचनाएं हुई हैं।

स्कंदमाता पूजा मंत्र -

या देवी सर्वभू‍तेषु स्कंदमाता रूपेण संस्थिता | नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम: ।।



   

प्रार्थना -

सिंहासनगता नित्यं पद्माञ्चित करद्वया। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी॥

स्तुति -

नमामि स्कन्दमाता स्कन्दधारिणीम्। 
समग्रतत्वसागररमपारपार गहराम्॥ 
शिवाप्रभा समुज्वलां स्फुच्छशागशेखराम्। 
ललाटरत्नभास्करां जगत्प्रीन्तिभास्कराम्॥ 
महेन्द्रकश्यपार्चिता सनंतकुमाररसस्तुताम्। 
सुरासुरेन्द्रवन्दिता यथार्थनिर्मलादभुताम्॥ 
अतर्क्यरोचिरूविजां विकार दोषवर्जिताम्। 
मुमुक्षुभिर्विचिन्तता विशेषतत्वमुचिताम्॥ 
नानालंकार भूषितां मृगेन्द्रवाहनाग्रजाम्। 
सुशुध्दतत्वतोषणां त्रिवेन्दमारभुषताम्॥ 
सुधार्मिकौपकारिणी सुरेन्द्रकौरिघातिनीम्। 
शुभां पुष्पमालिनी सुकर्णकल्पशाखिनीम्॥ 
तमोन्धकारयामिनी शिवस्वभाव कामिनीम्। 
सहस्त्र्सूर्यराजिका धनज्ज्योगकारिकाम्॥ 
सुशुध्द काल कन्दला सुभडवृन्दमजुल्लाम्। 
प्रजायिनी प्रजावति नमामि मातरं सतीम्॥ 
स्वकर्मकारिणी गति हरिप्रयाच पार्वतीम्। 
अनन्तशक्ति कान्तिदां यशोअर्थभुक्तिमुक्तिदाम्॥ 
पुनःपुनर्जगद्वितां नमाम्यहं सुरार्चिताम्। 
जयेश्वरि त्रिलोचने प्रसीद देवीपाहिमाम्॥

ध्यान -

वन्दे वांछित कामार्थे चन्द्रार्धकृतशेखराम्। 
सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा स्कन्दमाता यशस्वनीम्।। 
धवलवर्णा विशुध्द चक्रस्थितों पंचम दुर्गा त्रिनेत्रम्। 
अभय पद्म युग्म करां दक्षिण उरू पुत्रधराम् भजेम्॥ 
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानांलकार भूषिताम्। 
मंजीर, हार, केयूर, किंकिणि रत्नकुण्डल धारिणीम्॥ 
प्रफुल्ल वंदना पल्ल्वांधरा कांत कपोला पीन पयोधराम्। 
कमनीया लावण्या चारू त्रिवली नितम्बनीम्॥

 

   

माँ स्कंदमाता
स्कंदमाता की पूजन विधि -

देवी स्कंदमाता की पूजा के लिए सफ़ेद रंग के कपडे पहने, पूजा स्थल चौकी (बाजोट), जहां पर कलश स्थापना की हुई है, वहां पर स्कंदमाता की मूर्ति या तस्वीर की स्थापना करें और इसके बाद गंगा जल या गोमूत्र से शुद्धिकरण करें। चौकी पर चांदी, तांबे या मिट्टी के घड़े में जल भरकर उस पर कलश रखें। उसी चौकी पर श्रीगणेश, वरुण, नवग्रह, षोडश मातृका (16 देवी), सप्त घृत मातृका (सात सिंदूर की बिंदी लगाएं) की स्थापना भी करें। इसके बाद व्रत, पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा स्कंदमाता सहित समस्त स्थापित देवताओं की षोडशोपचार पूजा करें। इसमें आवाहन, आसन, पाद्य, अर्घ्य, आचमन, स्नान, वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, नैवेद्य, फल, पान, दक्षिणा, आरती, प्रदक्षिणा, मंत्र पुष्पांजलि आदि करें। माँ को केले का भोग लगाए और केसर डालकर खीर का भोग भी लगा सकते है | तत्पश्चात प्रसाद वितरण कर पूजन संपन्न करें। माना जाता है कि पंचोपचार विधि से देवी स्कंदमाता की पूजा करना बहुत शुभ होता है।

 

   

आरती -

जय तेरी हो स्कंदमाता। पांचवां नाम तुम्हारा आता।।  
सब के मन की जानन हारी। जग जननी सब की महतारी।।  
तेरी ज्योत जलाता रहूं मैं। हर दम तुम्हें ध्याता रहूं मैं।।  
कई नामों से तुझे पुकारा। मुझे एक है तेरा सहारा।।  
कहीं पहाड़ों पर है डेरा। कई शहरो में तेरा बसेरा।।  
हर मंदिर में तेरे नजारे। गुण गाए तेरे भक्त प्यारे।।  
भक्ति अपनी मुझे दिला दो। शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो।।  
इंद्र आदि देवता मिल सारे। करे पुकार तुम्हारे द्वारे।  
दुष्ट दैत्य जब चढ़ कर आए। तुम ही खंडा हाथ उठाएं।।  
दास को सदा बचाने आईं ‘चमन’ की आस पुराने आई।।

   

     

यह भी पढ़े -   
❀ साल में कितनी बार नवरात्रि आती है |   
❀ शारदीय नवरात्रि में घट स्थापना कैसे करे ?   
❀ नवरात्रि के पहले दिन माँ शैलपुत्री की पूजा   
❀ नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा   
❀ नवरात्रि के तीसरे दिन माँ चंद्रघंटा की पूजा   
❀ नवरात्रि के चौथे दिन माँ कूष्‍माँडा की पूजा   
❀ नवरात्रि के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की पूजा   
❀ नवरात्रि के छठे दिन माँ कात्यायनी की पूजा   
❀ नवरात्रि के सातवां दिन माँ कालरात्रि की पूजा   
❀ नवरात्रि के आठवें दिन माँ महागौरी की पूजा   
❀ नवरात्रि के नवमी दिन माँ सिद्धिदात्री की पूजा   
❀ नवरात्रि के दसवे दिन विजय दशमी (दशहरा)   

   

     

Login to Leave Comment
Login
No Comments Found
;
dsadfsdaf
©2020, सभी अधिकार भारतीय परम्परा द्वारा आरक्षित हैं। MX Creativity के द्वारा संचालित है |